संजय लीला भंसाली निर्देशित बाजीराव मस्तानी की मोहब्बत दर्शकों को रिझाने में कामयाब रहेगी| दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह कि जोड़ी रामलीला के बाद फिर से दर्शकों को पसंद आयेगी| फिल्म की कहानी नामचीन योद्धा पेशवा बाजीराव बल्लाव के जीवन पर आधारित है|
बाजीराव मस्तानी तीन ऐतिहासिक चरित्रों के इर्द गिर्द संजय लीला भंसाली ने एक भव्य ड्रामा के साथ बड़ी ही ख़ूबसूरती से पेशवा बाजीराव बल्लाव और उनके प्यार बुंदेलखंड राज्य के राजा की बेटी मस्तानी की प्रेम कहानी को प्रस्तुत किया है|

फिल्म की शुरुआत बड़ी ही भव्य है और आपको भव्य ऐतिहासिक यात्रा पर लेकर जाने का वादा करती है| फिल्म की कहानी है मराठा पेशवा बाजीराव बल्लाव जोकि एक योद्धा है, जिसने लगातार 40 युद्ध जीते हैं और उनकी दूसरी पत्नी मस्तानी की, दोनों के प्रेम के बीच धर्म की काफी विशाल दीवार है|

Bajirao Mastani (2015) Movie Review

Vella Di Rating : 7.5/10

फिल्म में रणवीर सिंह ने बाजीराव बल्लाव के रूप में गज़ब का अभिनय किया है, यह रणवीर कि अब तक की सबसे सर्वश्रेठ अभिनय परफॉरमेंस है, जिसमें वो अपने एनरजेटिक अंदाज में अभिनय करते हुए दिखाई देते है|

दीपिका पादुकोण ने भी बेहतरीन अभिनय किया है और नायाब खूबसूरती की मिसाल पेश की है| इसके साथ ही एक योद्धा के रूप में अपने किरदार को बड़ी ही ईमानदारी से निभाया है|

Bajirao Mastani Movie Review

फिल्म में प्रियंका चोपड़ा ने काशीबाई के किरदार में जान दाल दी है और अपने अभिनय से दर्शकों का दिल जितने में कामयाब रहती है और बाजीराव की पहली पत्नी के असहाय दुःख को प्रस्तुत करने में अपने अदभुत अभिनय से जान डाली है|

तन्वी आजमी ने बाजीराव की मां, आई साहेब के रूप में बहुत ही उम्दा और दमदार भूमिका के लिए याद रखने लायक अभिनय किया है|

सहायक कलाकारों में मिलिंद सोमन, रजा मुराद, महेश मांजरेकर, आदित्य पंचोली, आयुष टंडन, यतीन कायेज़्कर समेत सभी अपने रोल को बखूबी निभाया है और किरदार की तह तक जाते नज़र आये है|

फिल्म में शेरो-शायरी के साथ-साथ सवांद अच्छे और लुभावने है| फिल्म का गीत, संगीत और नृत्य देखने और सुनने में कर्णप्रिय और आँखों को सुकून पहुचाने वाला है| फिल्म के कुछ हिस्से आपको मुगल-ए-आजम फिल्म जैसा अहसास करवाते है| इस फिल्म की पटकथा और कहानी पर थोड़ी सी और मेहनत कि जाती तो यह फिल्म क्लासिक श्रेणी में शामिल होती।

विशालकाय सेट, कॉस्ट्यूम, मेकअप और भव्यता पर काफी मेहनत की गयी है जो फिल्म में साफ़ तौर पर दिखती है| फिल्म में रणवीर सिंह की कमाल की अभिनय प्रतिभा देखने को मिलेगी| बाजीराव बल्लाव के राजतिलक का दर्शय आपको मंत्रमुग्ध कर देगा उसके साथ ही गजानन बेहतरीन तरीके से फिल्माया गया।

रामलीला के बाद एक बार फिर संजय लीला भंसाली ने साबित कर दिया कि बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में इतिहास से जुडी संदेश देनी वाली कहानी एक गज़ब और भव्य ड्रामे के साथ पसंद कि जाती है| विशालकाय सेट और अपने निर्देशन में अलग हटकर किया गया भंसाली का प्रयोग काफी हद तक कामयाब भी रहा है और दर्शकों को आकर्षित करने का दमदार प्रयास भी किया है| इस फिल्म में ड्रामे का जबरदस्त तड़का लगाने के कारण थोडा सा फिल्म की मुख्य कहानी से भटकाव भी हुआ है|

खैर यह जरूर है कि संजय लीला भंसाली ने एक योद्धा व दार्शनिक की कहानी को गजब तरीके से ड्रामे के साथ अलग तरह से प्रस्तुत किया है, इसलिए दर्शकों कि वाहवाही बटोरने में सफल रहे है| फिल्म में काफी तकनीकी खामिया है, जिसमें युद्ध के दर्शय भी शामिल है| परंतु इसमें तनिक भी संदेह नहीं कि संजय लीला भंसाली ने मराठा इतिहास की एक प्रेम-कहानी को बड़े पर्दे पर लाकर पुनर्जीवन दिया है|

फिल्म के कुछ डायलॉग्स जिसमे “जड़ पर वार करो, बड़े से बड़ा पेड़ गिर जाता है” और हीरा में हीरा हो तो उसे कोहिनूर कहते हैं… काबिले तारीफ है|

फिल्म में दीपिका पादुकोण और रणवीर के बीच केमिस्ट्री और बाजीराव बल्लाव जैसे दार्शनिक योद्धा को बड़े पर्दे पर एक अनोखे और गजब ड्रामे के साथ देखना काफी दिलचस्प रहेगा| फिल्म आपको निराश नहीं करेगी यानी फुल टू मनोरंजन के लिहाज़ से आप फिल्म देखने सिनेमाघरों की और जा सकते है| बाजीराव ने मस्तानी से मोहब्बत की है, अय्याशी नहीं। बाजीराव मस्तानी फिल्म भव्यता के बीच सादगी का एक आँखों को मोह लेने वाली प्रेम कहानी है, जिसको आपको जरूर देखना चाहिए|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *