‘वन नाइट स्टैंड’  एक इरोटिक थ्रिलर फिल्म हैं जो सनी लियॉन की बाकी फिल्मों से कुछ हटकर हैं, लेकिन फिर भी नया कुछ नहीं हैं| सनी लियॉन की फिल्मों का एक खास वर्ग दीवाना है, जिनके कारण फिल्म निर्माता अपनी लागत निकाल लेते हैं| फिल्म के टाइटल को देखकर लगता है कि मूवी सेक्स सीन्स की भरमार होगी और कोई खास कहानी नहीं होगी तो आपको बता दू आप गलत सोचते हैं, क्यूंकि फिल्म उम्मीद से कुछ ज्यादा ही बेहतर हैं|

वन नाईट स्टैंड (2016) एक हिंदी थ्रिलर बॉलीवुड फिल्म है, जिसका लेखन भावनी अय्यर (Bhavani Iyer) ने और निर्देशन जस्मीन डिसूज़ा (Jasmine D’Souza) ने किया हैं| फिल्म में सनी लियॉन, तनुज विरवानी और नायरा बनर्जी ने मुख्य किरदार अदा किये हैं|

One Night Stand (2016) Film Review

Sunny Leone Starrer One Night Stand (2016) Film Story

वन नाइट स्टैंड कहानी है सेलीना (Sunny Leone) और उर्विल (Tanuj Virwani) की। दोनों एक पब में मिलते है, एक दुसरे के करीब आते है और फिर वन नाईट स्टैंड के बाद दोनों अलग हो जाते हैं| सेलीना तो उर्विल को भुलाकर अपनी जिंदगी में आगे बढ़ जाती है, लेकिन उर्विल शादीशुदा होने के बाद भी उसको भूल नहीं पाता| उर्विल बार-बार सेलीना से मिलने की कोशिश करता है वही सेलीना उर्विल की शक्ल भी देखना नहीं चाहती| इसी बीच उर्विल और उसकी बीवी सिमरन (Nyra Banerjee) की वैवाहिक जिंदगी भी प्रभावित होने लगती हैं| सेलीना के प्यार में उर्विल शराब के नशे में चूर रहने लगता है, वही दुसरी और सेलीना की भी वास्तविक जिंदगी की सच्चाई सामने आती हैं और आख़िरकार रोचक मोड़ और दिलचस्प पहलुओं के साथ फिल्म अपने अंजाम तक पहुचती हैं|

One Night Stand Movie Review & Rating

Vella Di Rating: 5.4/10

इंटरवल से पहले की फिल्म बहुत बढ़िया हैं| अच्छी कहानी, मनमोहक खुबसूरत लोकेशन्स, औसत संगीत, बेहतर सीन्स लेकिन इंटरवल के बाद फिल्म अपनी पकड़ खो देती है और थोड़ी स्लो और बोर करने लगती हैं| थ्रिल की कमी खलने लगती है, क्यूंकि उर्विल जिस तरह से सेलिना का पीछा करता है, उसमें थ्रिल नदारद रहता है और उन दर्श्यो में उबाऊपन का अहसास होता है। इसके अलावा सनी लियॉन का अभिनय और सवांद अदायगी फिल्म का कमजोर पक्ष है।

इस फिल्म में सनी लियॉन ने अंग-प्रदर्शन तो किया है, लेकिन साथ ही साथ अपने अभिनय को पहले से थोडा बेहतर किया हैं| पिछली फिल्मों में निर्देशकों ने सिर्फ सनी के बॉडी को दिखाया है, लेकिन जस्मीन डिसूज़ा ने उनकी बॉडी और टेलेंट दोनों को कैमरे में कैद किया हैं| इसके अलावा तनुज विरवानी ने अपने अभिनय और नशे में चुर आशिक के किरदार में जमे है और बाकी सभी सह-कलाकारों ने भी अच्छे से अपने किरदार को निभाने की कोशिश की हैं|

फिल्म का निर्देशन, डायरेक्टर ऑफ़ फोटोग्राफी और डायलॉग्स तो अच्छे हैं, लेकिन कहानी में थोड़ी सी कमी रहने के कारण एक अच्छी फिल्म बनते-बनते रह गयी|

इस फिल्म का संगीत दिया हैं मीत ब्रदर्स (Meet Bros), जीत गांगुली (Jeet Gannguli), टोनी कक्कर (Tony Kakkar) और विवेक कर (Vivek Kar) ने और बैकग्राउंड स्कोर संदीप शिरोड़कर (Sandeep Shirodkar) ने दिया हैं| इस फिल्म के दो गाने जिसमे विशेषकर “इश्क दा सुट्टा” और “दो पेग मार और भूल जा” पहले से ही लोगों की जुबान पर चढ़ चुके हैं| बाकी अन्य गीत और स्कोर ठीक-ठाक हैं|

अगर आप सनी लियॉन के डाई-हार्ड फैन है, तो यह फिल्म आप बेशक देख सकते हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *